रविवार, 9 अक्तूबर 2016

‘ताल दरवाजा में हुआ ‘कवि सम्मेलन’Tiakmgarh (mp)- Date-9-10-2016

‘ताल दरवाजा में हुआ ‘कवि सम्मेलन
Tiakmgarh (mp)- Date-9-10-2016

टीकमगढ़//‘ तालदरवाजा अखाडा समिति के तत्तवाधान में साहित्यिक सस्था ‘म.प्र लेखक संघ’ के संयोजन में तालदवाजा में ‘कवि सम्मेलन’ आायोजित किया जिसमें कवियों ने श्रोताओं का खूब हँसाया।
कवि सम्मेलन में मुख्य अतिथि बुन्देली के ख्यातिप्राप्त कवि डॉ. दुर्गेश दीक्षित रहे एवं अध्यक्षता साहित्यकार आर.एस.शर्मा ने की एवं विशिष्ट अतिथि के रूप में व्यंग्यकार रामगोपाल रैकवार जी रहे।
कवि सम्मेलन का संचालन राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी ने किया
तथा आभार प्रदर्शन वीरेन्द्र चंयोरिया ने किया।
कवि सम्मेलन की शुरूआत दीनदयाल तिवारी ने सरस्वती बंदना के बाद ये रचना पढ़कर की-
फौजी जूझ रहे आरि से, नेता हँसी उड़ाते हैं,
सेना लड़ रही सरहद पर, नेता टाँग अड़ा रहे।।
योगेन्द्र तिवारी ‘योगी’ ने पेरोडी सुनायी-
ये वतन ये वतन हमको तेरी कसम,
जो मिलेगा उसे खा जयेंगें हम।।
कुण्डेश्वर से प्रसिद्ध बुन्देली कवि डॉ. दुर्गेश दीक्षित ने रचना पढ़ी-
कजन कछु न मिले तुमें तो नेता जी बन जइयौ।।
फिर का काने मजे से घी की चुपरी खईयो।।
लखोरा से पधारे बुन्देली कवि गुलाब सिंह भाऊ ने पढ़ा-
वाहन जो दुनिया में छा गव,महाकाल मौ वारव।।



kavi sammelan
म.प्र.लेखक संघ के जिलाध्यक्ष
राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ ने हास्य कविता पढी-
पत्नी बोली देवी जी देखने जाना है
मैंने कहा देखने की क्या जरूरत है ।
तुम तो खुद काली माता हो
अपनी फरमाइसो की लंबी जीभ
तुम रोज निकालती हो।।
गण्ेश पन्नालाल शुक्ला ने पढ़ा-
चनी से टमाटर की चअनी बनवा,
जो है बुन्देली पाव, जो है बुन्देली पाव।
रामगोपाल रैकवार ने गीत सुनIया-
गिरजा गुरूद्वारा और मस्जिद मंदिर सबकी रीत है।
यहाँ ग़ज़ल नमाज है और प्रार्थना गीत है।।
वीरेन्द्र चंसोरिया ने गीत पढ़ी-
जिसने दिया ये अनुमप यक मानव तन,
उसी को समर्पित कर दो अपना ये जीवन।।
अनवर ‘साहिल’ ने ग़ज़ल सुनायी-
बेटी का फर्ज़ हमको निभाने नहीं दिया,
माँ-बाप ने दुनियाँ में आने नहीं दिया।।
आर.एस.शर्मा ने पढ़ा-
लड़ने लडाने की खातिर फिज़ा में जहर मत घोलो।
भारत माता की जय बोलो।
पूरन चन्द्र गुप्ता ने कविता ‘देवी जी की चाबी’ रचना पढ़ी।
अंत में तालदरवाजा अखाड़ा समिति के अध्यक्ष दीपक गिरि गोस्वामी,
व दीपक कुशवाहा, जयदीप प्रजापति, आकाश कुशवाहा, जैकी कुशवाहा, दीपू कुशवाहा, कमलेश,सौरभ कुशवाहा द्वारा सभी कवियों का स्iम्मान किया गया।

रपट- राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’,
अध्यक्ष म.प्र.लेखक संघ,टीकमगढ़,
मोबाइल-9893520965,

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें