गुरुवार, 13 जून 2013

क्रिकेट खिलाड़ी

क्रिकेट खिलाड़ी

करोड़ों लोगों की
भावनाओं से खेलकर,
वे दौलत के लिए
बिकते और खेलते हैं।
इसीलिए तो वे विकेट पर
ज़्यादा देर नहीं टिकते है।
बालर हुए तो क्या हुआ
बड़े बेशर्म है,
खूब दनादन पिटते है।।
-राजीव नामदेव 'राना लिधौरी,टीकमगढ़

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें