बुधवार, 14 अक्तूबर 2015

‘‘शब्द शिल्पियों के आसपास’’भोपाल से प्रकाशित मासिक पत्रिका के अक्टृवर 2015 अंक


धन्यवाद संपादक श्री राजुरकर राज जी
‘‘शब्द शिल्पियों के आसपास’’भोपाल से प्रकाशित मासिक पत्रिका के अक्टृवर 2015 अंक में प्रकाशित मेरे ग़ज़ल संग्रह  ‘राना के नज़राना’ की सचित्र विमोचन रपट

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें